Skip to main content

NAMAZ KI NIYAT KA TARIKA IN HINDI

NAMAZ KI NIYAT KA TARIKA IN HINDI

NAMAZ KI NIYAT KA TARIKA IN HINDI

NAMAZ KI NIYAT KA TARIKA IN HINDI


NAMAZ KI NIYAT KA TARIKA IN HINDI,नमाज़ की नियत कैसे करें ,इस पोस्ट में हम NAMAZ KI NIYAT के बारे में STEP WISE बताने की कोशिश करेंगे ताकि आपको आगे से नमाज़ पड़ने में गलतिया न करनी पड़ें।नमाज़ पढ़ने के लिए नियत सबसे अव्वल चीज है जो मुकम्मल होनी चाहिए। नमाज़ में सबसे पहले नियत की जाती है उसके बाद सना पढ़ी जाती है फिर सुर : फातिहा  कोई आयत और फिर रुकू में चले जाते हैं। 

नियत बहुत ही आसान है क्योंकि यह सभी नमाज़ में same होती है कुछ जयादा अंतर नहीं होता है। आप गौर से इस पोस्ट को धयान से पढ़े अगर अल्लाह ने चाहा तो आप जल्द ही नियत करना सीखा जायेंगे।हर कोई सर्च करता है की नमाज़ की नियत कैसे करें पर उन्हें कोई सही साइट नहीं मिल पाती और वो मायूस हो जाते हैं। मगर हम आपकी हर मुमकिन सहायता करेंगे। हर इस्लाम के बन्दे पर नमाज़ पढ़ना फ़र्ज़ है और नमाज़ को जितना सही पढ़ा जाए उतना ही बेहतर है।
मुसलमानों को तमाम इबादतों की तरह नमाज़ में भी नीयत करना फर्ज़ है। अगर आप नीयत किए बग़ैर नमाज़ पढ़ लेंगे, तो नमाज़ न होगी और उस नमाज़ को दोहराना भी आपके लिए लाज़िमी होगा। मक़्सद यह है। कि आपके ज़ेहन में यह बात साफ हो कि आप किस वक़्त की कौन-सी, कितनी रकूअतोंवाली और किसके लिए नमाज़ पढ़ रहे हैं, जैसे, पाँचों वक़्त के फर्ज़ नमाज़ों की नीयत आपके ज़ेहन और ध्यान में हो, जुबान से अदा करना ज़रूरी नहीं है-

  1. फज़्र की नमाज़ की नियत   - मैं नीयत करता हूँ दो रक्अत नमाज़ फ़र्ज़ वक़्त है फज़्र का  वास्ते अल्लाह के, रुख़ मेरा काबा शरीफ़ की तरफ़। 

  2. जुहर की नमाज़ की नियत - मै नीयत करता हूँ चार रकअंत नमाज़ फ़र्ज़ जुहूर, वास्ते अल्लाह के, रुख़ मेरा कारबा शरीफ की तरफ ।

  3. असर की नमाज़ की नियत - मैं नीयत करता हूँ चार रक्अत नमाज़ फर्ज़ असर । वास्ते अल्लाह के, रुख़ मेरा काबा शरीफ की  तरफ।

  4. मग़रिब की नमाज़ की नियत - मैं नीयत करता हूँ तीन रकअत नमाज़ फर्ज़ मग़रिब, वास्ते अल्लाह के, रुख मेरा काबा शरीफ की तरफ।

  5. इशा की नमाज़ की नियत - मैं नीयत करता हूँ च्रार रकात नमाज़ फर्ज़ इशा, वास्ते अल्लाह के, रुख़ मेरा काबा. शरीफ की तरफ। 

  6. जुम्मा की नमाज़ की नियत - नियत की मैंने 2 रकात फ़र्ज़ नमाज ए जुम्मा वास्ते अल्लाह तआला के रुख मेरा काबा सरीफ की तरफ। 

वाजिब नमाज़ की नीयत-


 मैं नीयत करता हूँ, तीन रक्अत नमाज़ वित्र वाजिब, वास्ते अल्लाह के, रुख मेरा काबा शरीफ़ की तरफ़।

दिन-रात में सिर्फ तीन रक्अत वित्र वाजिब हैं, जो इशा के बाद पढ़े जाते हैं। अगर आप जमाअत से नमाज़ पढ़ रहे हैं तो आपके ज़ेहन में यह भी होना चाहिए कि मैं इमाम के पीछे नमाज़ पढ़ रहा हूँ।

सुन्नत नमाज़ की नीयत-

अब हम सुन्नत नमाज़ की नियत पर गौर करेंगे इसमें कुछ अलग नहीं है बस फ़र्ज़ की जगह सुन्नत का नाम लेना है। 
 मैं नीयत करता हूँ 2 या 4 रक्अत नमाज़ सुन्नत, वक्त फजर, जुहर, असर, मगरिब या इशा, वास्ते अल्लाह के, रुख मेरा काबा शरीफ की तरफ।

नफ़्ल नमाज की नीयत -

सुन्नत नमाज़ ही की तरह नफ़्ल नमाज की नीयत भी की जाती है, सिर्फ नमाज़ सुन्नत के बजाय नमाज़ नफ्ल
कहा जाता है।
जैसे - मैं नीयत करता हूँ दो रकात नमाज़ नफ़्ल इशा, वास्ते अल्लाह के, रुख़ मेरा काबा. शरीफ की तरफ।
मुझे उम्मीद हैं की हमारे द्वारा दी गयी जानकारी"NAMAZ KI NIYAT KA TARIKA IN HINDI" आपके लिए बेहतर साबित होगी। किसी प्रकार की सहायता के लिए कमेंट करें।



Comments

Popular posts from this blog

Salatul tasbeeh namaz kaise padhen | salatul tasbeeh ka tarika

Salatul tasbeeh namaz kaise padhen|salatul tasbeeh ka tarika
Salatul tasbeeh namaz kaise padhen | salatul tasbeeh ka tarika,हेलो इस्लामिक दोस्तों इस पोस्ट में हम जानेंगे की सालतुल तस्बीह क्या है और इसकी नमाज़ कैसे अदा की जाती है। सालतुल तस्बीह की नमाज हर किसी को जिंदगी में काम से काम एक बार तो जरूर पढ़नी चाहिए। तो इस पोस्ट को पुरे इत्मीनान के साथ पढ़े और आगे भी शेयर करें ताकि कोई इससे दूर न रहे।
सलातुल तस्बीह की नमाज़ में "सुब्हा-नल्-लाहि वल्हम्दु लिल्लाहि वला इला-ह इललल्लाहु वल्लाहु अकबर" को कई बार पढ़ा जाता है और इसी को सलातुल तस्बीह कहते हैं।
salatul tasbeeh kya hai ?
सुब्हा-नल्-लाहि वल्हम्दु लिल्लाहि वला इला-ह इललल्लाहु वल्लाहु अकबरسُبْحَانَ اللّٰہِ، وَالْحَمْدُ لِلّٰہِ، وَلَا إِلٰہَ إِلاَّ اللّٰہُ، وَاللّٰہُ أَکْبَرُ इस तस्बीह को 300 मर्तबा पढ़ा जाता है। इसमें 4 रकात पढ़ी जाती हैं जिनसे हर rakat में 75 मर्तबा तस्बीह  "सुब्हा-नल्-लाहि वल्हम्दु लिल्लाहि वला इला-ह इललल्लाहु वल्लाहु अकबर" पढ़ी जाती है ऐसे करके हर रकात में 75 के हिसाब से 300 मर्तबा तस्बीह हो जाती है। अब हम …

NAMAZ RAKAT TABLE I NAMAZ KI RAKAT CHART IN HINDI

NAMAZ RAKAT 
NAMAZ RAKAT TABLE I NAMAZ KI  RAKAT CHART IN HINDI,हेलो दोस्तों इस पोस्ट में हम नमाज़ की रकत के बारे में विस्तार से बताएँगे। हर मुसलमान पर पांच वक़्त की नमाज़ फ़र्ज़ है और हर एक मुसलमान को नमाज़ आनी चाहिए। हमारा यह ब्लॉग आपको नमाज़ सिखने में बहुत अच्छे से मदद करेगा। अगर आपने भी कभी सर्च किया है की नामा की रकत कितनी होती है और नमाज़ कैसे पढ़े तो यकीन मानिये आप सही ब्लॉग पढ़ रहे हैं।इस पोस्ट में सभी नमाज़ों फज़र,जोहर ,असर,मगरिब ईशा की rakat के बारे में जानेंगे।अगर आप नमाज़ पढ़ते हैं और आपको नमाज़ की रकात के बारे में नहीं पता तो यह मुनासिब नहीं है आपको नमाज़ की rakat को सीखना चाहिए रकत के बारे में यूँ है की किसी भी नमाज़ में फ़र्ज़,सुन्नत,नफ़्ल और वित्र होते हैं। जिनके बार्रे में हमें बेहतर तरीके से मालूमात होने चाहिए। पांच वक़्त की नमाज़ों में केवल तीन रकत वित्र वाजिब होते हैं। उपर मैंने टेबल बनाई है जिसकी सहायता से आप बेहतर तरीके से रकअतों के बारे में जान सकेंगे।इसमें सभी नमाज़ो और नमाज़ में पढ़ी जाने वाली फर्ज ,सुन्नत,नफ़्ल और वित्र को समझाया है जो की आपको नमाज़ पढ़ने में आसानी करेगा। fazr namaz raka…

namaz ki sharten ,namaz ada karne ka tarika in hindi

नमाज़ की शर्ते
नमाज़ के लिए कुछ शर्ते हैं, जिनको पूरा किए बगैर नमाज़ नहीं हो सकती। कुछ शर्तों का नमाज़ शुरू से पहले पूरा करना ज़रूरी है, जैसे वुजू और करने शर्तों का नमाज़ पढ़ते हुए खयाल रखा जाता है। नमाज़ पढ़ने से पहले इन सात शर्तों को पूरा करना ज़रूरी है-


. बदन पाक हो
. कपड़े पाक हों
. नमाज़ अदा करने की  जगह(namaz ada karne ki jagah) पाक हो
. कपड़े पहन रखे हों यानी सतर छिपा रखा हो
नमाज़ का वक्त हो
किब्ले की तरफ़ मुँह करना 
नीयत करना यानी यह इरादा करना और ध्यान जमाना कि मैं फ़लां नमाज़ पढ़ रहा हूँ।

 (क) बदन पाक करने के लिए, अगर नहाने की जरूरत हो तो नहा लीजिए या बदन पर गन्दगी लगी हो। तो धो लीजिए। गुस्ल (नहाने) की तर्कीब यह है- पहले पाक-साफ पानी लीजिए, फिर दोनों धोइए, इस्तिजा कीजिए बदन पर गन्दगी अगर लगी हो तो धो डालिए, फिर वुजू कीजिए। अगर रोज़ा न हो तो कुल्ली के साथ गरारा भी कीजिए, फिर सारे बदन पर तीन बार पानी डालिए। याद रखिए गुस्ल में कुल्ली करना और बदन पर पानी डालना फर्ज़ है, इनके बरौर ग़ुस्ल नहीं हो सकता।
(ख) बदन पाक करने के लिए अगर नहाने की जरूरत न हो तो सिर्फ वुजू कर लीजिए। वुज़ू की तर्कीब …